इंटर का रिजल्ट जारी कर बिहार बोर्ड ने खुद का रिकॉर्ड तोड़ा, कैसे किया ये चमत्कार, जानिए

पटना, जेएनएन। Bihar board बिहार बोर्ड ने इस साल अपना ही रिकॉर्ड तोड़ दिया है और इंटर के तीनो संकाय के परीक्षा के परिणामों की घोषणा इस साल पिछले साल के मुकाबले से भी कम से कम समय में कर दी है। बिहार बोर्ड का दावा है कि उन्होंने इस परिणाम को 40 दिन के भीतर जारी कर दिया है। अब देखना है कि मैट्रिक की परीक्षा का रिजल्ट बोर्ड कबतक जारी करता है।

मीडिया को दिए बयान में बिहार बोर्ड के अध्यक्ष आनंद किशोर ने कहा कि बिहार बोर्ड द्वारा इस साल के रिजल्ट प्रोसेसिंग के लिए एक नया सॉफ्टवेयर तैयार किया गया था, जिसके रिजल्ट प्रोसेसिंग की स्पीड पिछले सॉफ्टवेयर की तुलना में 16 गुना अधिक थी और इसी सॉफ्टवेयर की वजह से रिजल्ट जल्दी जारी किया जा सका है। बता दें कि इस वर्ष बोर्ड की परीक्षाओं का आयोजन 3 फरवरी, 2020 से 13 फरवरी, 2020 तक कराया गया था।

एक तरफ देश भर में कोरोना वायरस की वजह से कई राज्यों के बोर्ड में कॉपी जांचनें का कार्य भी रुक गया है, तो वहीं बिहार बोर्ड ने शिक्षकों की हड़ताल के बावजूद रिकॉर्ड तेजी से 12वीं का रिजल्ट जारी कर दिया है। बता दें कि इस साल 12वीं बोर्ड की परीक्षा में कुल 12,04,834 विद्यार्थी शामिल हुए थे, जिसमें से 6,56,301 छात्र तथा 5,48,533 छात्राएं शामिल थीं।

बता दें कि बिहार बोर्ड की परीक्षा राज्य के 1283 केंद्रो पर आयोजित की गई थी और इस बार कॉमर्स, साइंस, आर्ट्स स्ट्रीम में कुल मिलाकर 80.44 प्रतिशत विद्यार्थी पास हुए हैं, जबकि पिछले साल 79.76 प्रतिशत पास हुए थे। तो वहीं कला, विज्ञान और वाणिज्य विभाग के कुल मिला कर 80.44 प्रतिशत छात्र पास हुए हैं, वहीं बीते साल पास होने वाले छात्रों का प्रतिशत 79.76 प्रतिशत था।

साइंस स्ट्रीम में 92.2 प्रतिशत (476 अंक) अंक प्राप्त करके नेहा कुमारी ने प्रथम स्थान प्राप्त किया है तो वहीं कला संकाय में 94.80 फीसदी अंक (474 अंक) प्राप्त करने वाले स्टूडेंट ने टॉप किया है। कॉमर्स स्ट्रीम में कौसर फातिमा तथा सुधांशु नारायण चौधरी ने 95.2 फीसदी अंक (476 अंक) प्राप्त कर टॉप किया है। बिहार बोर्ड ने परीक्षा परिणाम चेक करने के लिए ऑनलाइन सुविधा दी है, जहां से आप अपनी मार्कशीट भी डाउनलोड कर सकते हैं।